स्कूल प्रबंधन समितियां बच्चों के व्यक्तित्व विकास में महत्वपूर्ण भूमिका कर सकती है अदा – राजिन्द्र गर्ग

बिलासपुर 19 मार्च – समग्र शिक्षा जिला बिलासपुर के सौजन्य से जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान बिलासपुर स्थित जुखाला में जिला स्तरीय उत्कृष्ट स्कूल प्रबंधन कमेटी सम्मान समारोह आयोजित किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले मंत्री राजिन्द्र गर्ग ने की।
इस अवसर पर उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि स्कूल प्रबंधन समितियां बच्चों के व्यक्तित्व के चहुमुखी विकास में अपनी महत्वपूर्ण भूमिका अदा कर सकती है। उन्होंने विभिन्न स्कूलों में उत्कृष्ठ भूमिका निभाने वाली श्रेष्ठ स्कूल प्रबंधन समितियों को संबोधित करते हुए कहा कि वे बच्चों, अध्यापकों व अभिभावकों के साथ मिलकर शैक्षणिक परिवार के अभिन्न अंग है तथा इन चारों घटकों में से एक घटक के भी कमजोर होने से शिक्षा का सम्पूर्ण विकास संभव नहीं है। पाठ्यक्रम के साथ-साथ प्रबंधन शिक्षा का एक महत्वपूर्ण अंग है जिससे शिक्षा के क्षेत्र में वांछित परिणाम प्राप्त किए जा सकते है।
उन्होंने कहा कि सरकार शिक्षण व्यवस्था को बेहतर करने के लिए लगातार प्रयास कर रही है। अध्यापकों व अभिभावकों के साथ मिलकर स्कूल प्रबंधन समितियों को विद्यालयों की कमियों को दूर करने में अपना महत्वपूर्ण योगदान प्रदान करना चाहिए। सरकार ने बच्चों को शिक्षा के प्रेरित करने के लिए ‘अखंड शिक्षा ज्योति मेरे स्कूल से निकले मोती’ कार्यक्रम आरंभ किया है। शिक्षा के क्षेत्र में विकास सरकार व समाज के परस्पर सहयोग से ही संभव है।
उन्होंने कहा कि सरकार ने स्कूलों में अधोसंरचना विकसित करने के लिए उत्कृष्ट विद्यालय योजना आरंभ की है। स्कूल प्रबंधन समितियों को स्कूलों को आदर्श रूप से विकसित करने के स्कूलों में आधारभूत ढांचे के विकास के लिए सरकार के साथ मिलकर काम करना चाहिए।
उन्होंने स्कूल प्रबंधन के सदस्यों को संबोधित करते हुए वे दलगत राजनीति से ऊपर उठकर अभिभावकों को जागरूक करने व शिक्षण संस्थानों व समाज के बीच सेतु का कार्य कर अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें। अध्यापक शिक्षा के क्षेत्र में अपनी भूमिका कक्षा तक ही सीमित न रखें अपितु बच्चों के सर्वांगीण विकास में भी अपना सहयोग देते रहे।
उन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में उत्कृष्ट कार्य करने के लिए जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान जुखाला को बधाई दी।
इस अवसर पर उप निदेशक उच्च शिक्षा राजकुमार, प्रधानाचार्य जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान राकेश पाठक तथा स्कूल प्रबंधन समितियों के जिला समन्वयक सोम दत्त कालिया ने स्कूलों में चलाई जा रही विभिन्न गतिविधियों की जानकारी दी।
इस अवसर पर जिला बिलासपुर में वर्ष 2021-22 में श्रेष्ठ स्कूल प्रबंधन समितियों को 10 हजार रुपये नगद पुरस्कार, प्रशस्ति पत्र एवं स्मृति चिन्ह देकर तथा जिला के 26 शिक्षकों को विभिन्न गतिविधियों में बेहतर प्रदर्शन के लिए सम्मानित किया गया।
इस अवसर पर लोगों को संबोधित करते हुए हिमाचल प्रदेश आपदा प्रबंधन बोर्ड के उपाध्यक्ष रणधीर शर्मा ने कहा कि शिक्षक का पद एवं दायित्व महत्वपूर्ण है तथा शिक्षक को अपना कार्य कर्मचारी की मानसिकता के स्थान पर राष्ट्र निर्माता के रूप में करना चाहिए। शिक्षक देश के निर्माता बच्चों के उज्ज्वल भविष्य को संवारने के लिए अपनी जिम्मेवारियों का निर्वहन उत्कृष्ठता के साथ करें। सभी शिक्षकों को राष्ट्र निर्माता के रूप में उनके द्वारा पढ़ाए गए बच्चों का विश्लेषण करना चाहिए ताकि मार्गदर्शन के अभाव में गरीब व पिछडे क्षेत्र के बच्चे शिक्षा के क्षेत्र में पीछे न रहे। शिक्षक को हमेशा सभी बच्चों के उचित मार्गदर्शन तथा बच्चों में बेहतर संस्कार पैदा करने के लिए हमेशा तत्पर रहना चाहिए।
जिला बिलासपुर के घुमारवीं-1 शिक्षा खंड में वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला भराड़ी, उच्च पाठशाला पंतेहडा तथा राजकीय प्राथमिक पाठशाला मिहाड़ा के प्रबंधन समितियों तथा मुख्य अध्यापक को सम्मानित किया गया।  
जिला के घुमारवीं-2 शिक्षा खंड में वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला पनोह, उच्च पाठशाला भगेड़, माध्यमिक पाठशाला मेहरन और राजकीय केन्द्र प्राथमिक पाठशाला हवाण की प्रबंधन समितियों व मुख्य अध्यापकों को सम्मानित किया गया।
इसी प्रकार सदर शिक्षा खंड के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला छात्रा बिलासपुर, राजकीय माध्यमिक पाठशाला डियारा, राजकीय केंद्र प्राथमिक पाठशाला कोटला तथा राजकीय प्राथमिक पाठशाला बलग का घाट की प्रबंधन समितियों तथा मुख्य अध्यापक को भी सम्मानित किया गया।
इसके अतिरिक्त शिक्षा खंड झंडूता के वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला जेजवी, राजकीय उच्च पाठशाला ज्योरा, राजकीय माध्यमिक पाठशाला नंद नगराओं तथा राजकीय प्राथमिक पाठशाला नंद की प्रबंधन समितियों तथा मुख्य अध्यापक को  सम्मानित किया गया।
शिक्षा खंड स्वारघाट के राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला टोबा, राजकीय उच्च पाठशाला डोलन, राजकीय माध्यमिक पाठशाला टाडोह तथा केन्द्र प्राथमिक पाठशाला जगातखाना एवं राजकीय प्राथमिक पाठशाला कनफारा की प्रबंधन समितियों तथा मुख्य अध्यापक को सम्मानित किया गया।
इस अवसर पर डाईट के प्रक्षिशु द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किया गया।
कार्यक्रम में हिमाचल प्रदेश आपदा प्रबंधन बोर्ड के उपाध्यक्ष रणधीर शर्मा, उप निदेशक उच्च शिक्षा राजकुमार, उप निदेशक प्रारम्भिक शिक्षा कुलभूषण राकेश, उप निदेशक निरीक्षण दया राम, भाजपा मंडल अध्यक्ष लेख राम वर्मा, प्रधानाचार्य जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान राकेश पाठक, पूर्व बीडीसी सदस्य रूपेश भट्टी, पूर्व अध्यक्ष व जिला सचिव बृजलाल ठाकुर, बीडीसी सदस्य विभा, एसएमसी के जिला समन्वयक सोम दत्त कालियां, जुखाला महाविद्यालय की प्रधानाचार्य वंदना वैद्य, प्रधान ग्राम पंचायत जुखाला जगदीश ठाकुर, प्रधान ग्राम पंचायत रानी कोटला पारस राम, ग्राम पंचायत पंतेहडा के प्रधान सहित हाईट के प्रशिक्षु व स्कूल के अध्यापक गण भी उपस्थित रहे।