घुमारवीं विधानसभा में 200 सम्पर्क मार्ग निर्मित – राजिन्द्र गर्ग

18 लाख 50 हजार से निर्मित सम्पर्क मार्ग का खाद्य नागरिक आपूर्ति मंत्री ने किया लोकार्पण

बिलासपुर – खाद्य नागरिक आपूर्ति एंव उपभोक्ता मामले मंत्री राजिन्द्र गर्ग राष्ट्रीय उच्च मार्ग 103 से अप्पर घुमाणी, सनौर, टिक्करी बडगराईयां गांव के सम्पर्क मार्ग का लोकार्पण किया। ग्राम वासियों के शुभकामनाएं देते हुए उन्होंने कहा कि लगभग 600 मीटर लम्बे इस सम्पर्क पर 18 लाख 50 हजार रूपये खर्च किए गए हैं।
उन्होंने कहा कि सम्पर्क मार्ग को गांव तक पूरा करने के लिए 03 लाख रुपये के  अतिरिक्त टेंडर कर दिया गया है। उन्होने कहा कि सरकार गांव के विकास के लिए कृतसंकल्प है तथा गांव का विकास सडक निमार्ण के बाद ही संभव होता है। सरकार ग्रामीण विकास पर लगातार तव्जजों दे रही है। घुमारवीं विधानसभा क्षेत्र में गांवो के लिए लगभग 200 सम्पर्क मार्गो का निर्माण किया जा चुका है। उन्होने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य के विकास को गति प्रदान करने के लिए सार्थक प्रयास कर रही है। हालांकि लगभग दो वर्षांे तक कोविड महामारी एक बड़ी चुनौती बनी रही और प्रदेश की आर्थिकी को भी इसने बुरी तरह से प्रभावित किया है, लेकिन राज्य सरकार ने निरंतर एवं ईमानदार प्रयासों से विकास की गति को बनाए रखा और समाज के सभी वर्गों का कल्याण सुनिश्चित किया है।
उन्होंने कहा कि कोविड की स्थिति को संभालने में हिमाचल प्रदेश अग्रणी राज्य के रूप में उभरा है और केन्द्र सरकार की सहायता एवं समर्थन से राज्य सरकार ने यह सुनिश्चित किया कि लोगों को बेहतर चिकित्सा उपचार सुविधाएं प्राप्त हों और उन्हें किसी भी तरह की असुविधा का सामना न करना पड़े। स्वास्थ्य संस्थानों में बिस्तर क्षमता बढ़ाई गई और किसी भी मरीज को ऑक्सीजन और वेंटिलेटर की कमी से नहीं जूझना पड़ा। उन्होने बताया कि प्रदेश में पहले केवल दो आक्सीजन प्लांट थें जो अब वढ़ कर 48 हो चुके हैं अस्पतालों में विस्तरों की सख्यां जो पूर्व में 4 हजार थी उसे अब 14 हजार तक बढ़ा दिया गया है। अस्पतालों मेें पूर्व में 46 वैंटीलेटर थे जिनकी संख्या को बढ़ा कर अब 1014 कर दिया गया है।
उन्होंने कहा कि राज्य सरकार के ईमानदार प्रयासों और प्रदेश के लोगों के सक्रिय सहयोग से हिमाचल कोविड-19 से लड़ाई में चैम्पियन बनकर उभरा है और लक्षित आबादी को शत-प्रतिशत टीकाकरण करने वाला पहला राज्य बना है।
उन्होंने कहा कि सरकार सभी वर्गों के जीवन स्तर में सुधार और उनके कल्याण के लिए पूर्ण समर्पण से कार्य कर रही है। वृद्धावस्था पेंशन की पात्रता के लिए बिना आय सीमा के  इसकी आयु सीमा को 80 वर्ष से घटाकर 60 वर्ष किया गया है।उन्होंने कहा कि किसान खेती से विमुख ना हो तथा कृषि और बागवानी अपनाकर किसानों बागवानों की खुशहाली के लिए शिवा प्रोजेक्ट आरम्भ किया गया है। उन्होने कहा कि इस योजना के अंतगर्त किसानों को केवल अपनी भूमि उपलब्ध करवानी होती है जबकि पौधे सिंचाई की व्यवस्था तथा सोलर बाढ़बदीं की सुविधा सरकार द्वारा निशुल्क उपलब्ध करवाई जा रही है।
उन्होने कहा कि इस पंचायत के विकास पर लगभग 62 लाख रूप्ये व्यय किए गये है । उन्होने पंचायत की अन्य मागों के लिए प्राकलन बनवा कर देने के निर्देश  दिये। उन्होंने  कहा कि अवारी में छोटा बोरवेल लगवाने का आश्वासन दिया।  
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री गृहिणी सुविधा योजना के अतंगर्त सरकार द्वारा 3 लाख 25 हजार से अधिक रसोई गैस कनेक्शन निशुल्क प्रदान किये गए है और एक अतिरिक्त गैस रिफिल देने के पश्चात अब सरकार ने दो और निशुल्क गैस रिफिल देने का निर्णय लिया है।
उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री स्वावलंबन योजना, मुख्यमंत्री शगुन योजना, मुख्यमंत्री रोशनी योजना, मुख्यमंत्री सेवा संकल्प हेल्पलाइन-1100 और जन मंच जैसी महत्वाकांक्षी योजनाएं राज्य के लोगों के लिए वरदान सिद्ध हुई हैं।
इस अवसर पर महिला मंडलो द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश किये गये। मुख्यअतिथि ने अवारी खलीण, पेहडवीं, घुमाणी सहित श्री सिद्ध बाबा गोदड़ियां महिला मंडलों प्रत्येक को 11-11 हजार रूपये देने की घोषणा की।
 इस अवसर पर  मंडल सैनिक प्रकोष्ठ के संयोजक कैप्टन सुरजीत सिंह,ग्राम पंचायत प्रधान की प्रधान रेणु शर्मा, उप प्रधान सुरेश चंदेल, ग्राम पंचायत पनोह के उप प्रधान बेसरिया राम,  ग्राम पंचायत फटोह प्रधान पदमा, गूगा जाहर पीर कमेटी  घुमाणी के प्रधान राजेद्र सिंह चंदेल उप प्रधान देशराज चंदेल सहित अन्य गणमान्य लोग उपस्थित रहे।