9 से 13 फरवरी तक पांगी घाटी में प्रशासन और भारतीय वायु सेना के द्वारा चलाया गया राहत एवं बचाव कार्य

पांगी घाटी में अधिक बर्फबारी के कारण से बाहर जाने वाले सड़क मार्ग पूरी तरह से खुल नहीं पाए थे। जिस कारण लोगों को जरूरी कार्यों के लिए घाटी से बाहर आने जाने मेें दिक्क़तो का सामना करना पड़ रहा था ।लिहाजा उप मण्डलीय  प्रशासन व भारतीय वायु सेना के  सहयोग  से  राहत एवं बचाव कार्य के लिए 9 फरवरी से 13 फरवरी तक ऑपरेशन चलाया गया।

आवासीय आयुक्त पांगी बलवान चंद ने जानकारी देते हुए बताया कि वर्तमान परिस्थितियों को देखते हुए लोगो की सुविधा  के लिए  सरकार से हवाई सेवा उपलब्ध कराने के लिए मांग की गई थी। जिसे देखते हुए यह ऑपरेशन चलाया गया और घाटी की जनता को हेलीकाप्टर की सुविधा उपलब्ध करवाई गई।
उन्होंने बताया ऑपरेशन के दौरान कुल 82 लोगों को (पांगी) किलाड़ से भुंतर (कुल्लू )और भुंतर (कुल्लू ) से किलाड़ (पांगी ) लाया ले जाया गया। जिनमें मरीज, वृद्ध लोग, बच्चे और विभिन्न कार्यालयों के कर्मचारी शामिल है ।
यह ऑपरेशन वायु सेना के विंग कमांडर सैलेश सिंह की अगुवाई में चलाया गया  ।
विंग कमांडर सैलेश सिंह ने बताया कि पांगी जैसे दुर्गम क्षेत्र मे जहाँ तापमान माईनस 15 से 20 डिग्री तक पहुंच जाता है, समय – समय पर भारतीय वायु सेना अपनी सेवाएं देने के लिए हमेशा तत्पर रहती है। उन्होंने बताया कि ऑपरेशन में एडवांस्ड लाइट हेलीकाप्टर

 ए एल एच  और  एम आई 17 वी  5  हेलीकाप्टर का इस्तेमाल किया गया। उन्होंने प्रशासन का उनके सहयोग के लिए धन्यवाद किया और ख़ुशी व्यक्त करते हुए कहा इस क्षेत्र में  अपनी सेवाएं देना का अवसर दिया।