20 करोड़ से हुई टायरिंग 3 वर्ष भी नहीं सहन कर पाई नाहन कुमारहट्टी एनएच- 907 का भार

907ए नाहन-सराहां-कुमारहट्टी पर हुई टायरिं पांच महीने से दो वर्ष के बीच में ही उखड़नी शुरू हो गई है।

भारत में नेशनल हाइवे का जाल बिछाने का केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी का सपना सिरमौर जिला में टूटता नजर आ रहा है। आलम यह है कि नेशनल हाइवे 907ए नाहन-सराहां-कुमारहट्टी पर हुई टायरिंग मात्र पांच महीने से दो वर्ष के बीच में ही उखड़नी शुरू हो गई है। इसमें विभाग की गलती है या ठेकेदार जिम्मेवार है, इसका खुलासा तो जांच के बाद हो सकता है। मगर इतना जरूर है कि केंद्रीय मंत्री का देश की सड़कों को अमेरिका बनाने का सपना यहां चकनाचूर होता ही दिखाई दे रहा है। 78 किलोमीटर लंबे नाहन कुमारहट्टी राष्ट्रीय राजमार्ग 907ए पर जगह-जगह गड्ढे व दादरे पड़ गई हैं। जिसके कारण एनएच फट गया है। जिसके चलते वाहन मालिकों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

20 करोड़ की लागत से हुई टायरिंग के इस तरह फटने से विभाग पर भी सवालिया निशान उठने शुरू हो गए हैं। साथ ही टायरिंग में प्रयोग किए गए मेटेरियल पर भी लोगों ने उंगली उठाने शुरू कर दी हैं। नाहन-सराहां-कुमारहट्टी नेशनल हाईवे 907ए के आरडी नंबर 0 से 20 की टायरिंग अक्टूबर-नवंबर माह में हुई थी। 5 महीने में ही यह टायरिंग कई जगह से उखड़ गई है। हालांकि ठेकेदार ने इस सड़क पर पैच वर्क गई शुरू कर दिया है। मगर फिर भी यह टायरिंग सही नहीं बैठ रही है और दोबारा से टायरिंग फट रही है। इस हाईवे की टायरिंग का टेंडर दो अलग-अलग फर्मों को मिला था। जिसमें 0 से 20 आईडी नंबर का टेंडर 5 करोड 52 लाख में गणपति कंपनी को मिला था। जबकि 2019 में आइडी नंबर 20 से लेकर 78 तक तीन टेंडर बंसल कंपनी के नाम अलॉट हुआ था। इसमें आरडी नंबर 20 से 30 का टेंडर 3 करोड़ 17 लाख रुपये, आरडी नंबर 30 से 40 का टेंडर 3 करोड़ 09 लाख रुपए तथा आरडी नंबर 40 से 78 का टेंडर 8 करोड़ 83 लाख रुपए में हुआ था। बंसल कंपनी को 3 टेंडर 15 करोड़ 09 लाख रुपए में आबंटित हुआ था।

वहीं नेशनल हाईवे सराहां सबडिवीजन के सहायक अभियंता आरएल भाटिया ने कहा कि नेशनल हाईवे 907ए पर पड़ी दरारों तथा उखड़ी हुई स्थानों पर पैच वर्क लगाने के निर्देश ठेकेदार को दे दिए हैं। जिला सिरमौर नेशनल हाईवे नाहन मंडल के अधिशासी अभियंता अनिल शर्मा ने बताया कि नाहन-सराहां- कुमारहट्टी राष्ट्रीय राजमार्ग पर पड़ी दरारों व गड्ढों को जल्द भरने के निर्देश संबंधित ठेकेदार को दे दिए हैं। 1 सप्ताह में ठेकेदार पूरे हाईवे पर पैच वर्क लगा देगा।