होली की पूर्व संध्या में संजीवनी बनकर कांता के जीवन मे आए चिक्त्सिक

होली की पूर्व संध्या पर साई संजीवनी होस्पिटल में कांता को नई संजीवनी मिली। काफी समय से परेशान कांता का सफल ऑपरेशन कर चिकित्सकों की टीम ने उनके पेट से 10 किलोग्राम की रसौली उसके पेट से निकाली। जैसे ही 10 किलोग्राम की रसौली निकाली गई उसकी वजन भी 10 किलो कम हो गया और 3 साल से दर्द झेल रही कांता अब खतरे से बाहर है व उसे अब किसी भी प्रकार की कोई दर्द नहीं है। 
करीब डेढ़ घंटे चले ऑपेरशन में डॉ संजय, डॉ मंदीप घोमा, मनीष थापा, अनु , अंजना व अंकुश ने भाग लिया और इस ऑपरेशन को सफल बनाया।