सोलन जिला में प्रथम अगस्त से 31 अगस्त तक टीबी एक्टिव केस फाइडिंग कैम्पेन

सोलन जिला में प्रथम अगस्त से 31 अगस्त तक टीबी एक्टिव केस फाइडिंग कैम्पेन

उपायुक्त सोलन कृतिका कुल्हारी ने कहा कि प्रदेश सरकार के निर्देशानुसार राज्य के अन्य जिलों के साथ-साथ सोलन जिला में भी प्रथम अगस्त से 31 अगस्त, 2021 तक क्षय रोग सक्रिय मामला खोज अभियान (टीबी एक्टिव केस फाइडिंग कैम्पेन) कार्यान्वित किया जाएगा। कृतिका कुल्हारी आज यहां अभियान के सम्बन्ध में जिला क्षय रोग निवारण समिति के तहत गठित जिला कार्यबल की बैठक की अध्यक्षता कर रही थी।
कृतिका कुल्हारी ने कहा कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा प्रथम अगस्त से 31 अगस्त, 2021 तक क्षय रोग मुक्त हिमाचल अभियान कार्यान्वित किया जाएगा। इस अवधि में राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम के तहत घर-घर जाकर क्षय रोग के मामलों का पता लगाया जाएगा। अभियान के तहत क्षय रोग मामलों की खोज के लिए सघन गतिविधियां आयोजित की जाएंगी।
उपायुक्त ने कहा कि क्षय रोग एक्टिव केस अभियान के तहत सोलन जिला की 636609 जनसंख्या की मैपिंग की जाएगी। इसका उद्देश्य जिला में क्षय रोग के सक्रिय मामलों का पता लगाकर उनको समुचित उपचार उपलब्ध करवाना है। उन्होंने कहा कि जिला की सभी 240 ग्राम पंचायतों, नगर निगम सोलन, सभी नगर परिषदों तथा नगर पंचायतों में क्षय रोग उन्मूलन के लिए यह अभियान कार्यान्वित किया जाएगा। उन्हांेने कहा कि ऐसे सभी समूहों की सघन जांच की जाएगी जो किसी कारणवश क्षय रोग की चपेट में आ सकते हैं।
कृतिका कुल्हारी ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग सोलन को निर्देश दिए कि जन-जन की मैपिंग के दौरान वरिष्ठ नागरिकों, छात्रावासों में रह रहे युवाओं, श्रमिकों एवं औद्योगिक कामगारों तथा झुग्गी झोंपड़ी के निवासियों पर विशेष ध्यान दिया जाए।
उन्होंने कहा कि जिला के प्रत्येक नागरिक तक यह जानकारी भी पहुंचाई जाए कि क्षय रोग का पूर्ण उपचार सम्भव है। इसके लिए यह आवश्यक है कि खांसी इत्यादि की स्थिति में समीप के स्वास्थ्य केन्द्र में जांच करवाई जाए। उन्होंने कहा कि चिकित्सक की देखरेख में निर्धारित समय अवधि तक दवा लेने से क्षय रोग का पूर्ण उपचार सम्भव है। उन्होंने कहा कि लोगों को क्षय रोग के लक्षणों के सम्बन्ध में जागरू किया जाए।
मुख्य चिकित्सा अधिकारी सोलन डाॅ. राजन उप्पल ने अभियान के तहत आयोजित की जाने वाली गतिविधियों की विस्तृत जानकारी प्रदान की। उन्होंने कहा कि सोलन जिला में वर्तमान में क्षेत्रीय अस्पताल सोलन, टीबी सेनिटोरियम धर्मपुर, ईएसआई अस्पताल परवाणू, यूएचएफ नौणी, एमएमयू अस्पताल सुल्तानपुर, अन्नया क्लीनिकल लैब सोलन, बाल मुकुन्द एपेक्स अस्पताल सोलन, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र नालागढ़, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र बद्दी, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र जोघों, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र रामशहर, नागरिक अस्पताल अर्की, ईएसआई दाड़लाघाट, नागरिक अस्पताल कुनिहार, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र भूमती, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र चण्डी, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पट्टा, ईएसआई आदर्श अस्पताल काठा, ईएसआई बद्दी, कुठाड़, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र सायरी, नागरिक अस्पताल कण्डाघाट तथा नागरिक अस्पताल चायल में क्षय रोग परीक्षण की सुविधा उपलब्ध है।
जिला कार्यक्रम अधिकारी डाॅ. मुक्ता रस्तोगी ने कहा कि सांय काल में बुखार में वृद्धि होना, बलगम, वजन कम होना, रात में पसीना आने जैसे लक्षण होने पर तुरन्त चिकित्सक की सलाह लें। उन्होंने कहा कि जागरूकता अभियान के तहत यह सारी जानकारी जन-जन तक पहुंचनी चाहिए।
अतिरिक्त उपायुक्त सोलन ज़फ़र इकबाल, उपमण्डलाधिकारी सोलन अजय यादव, मुख्य चिकित्सा अधिकारी सोलन डाॅ. राजन उप्पल, जिला कार्यक्रम अधिकारी डाॅ. मुक्ता रस्तोगी, जिला आयुर्वेदिक अधिकारी डाॅ. राजेन्द्र शर्मा, जिला कार्यक्रम अधिकारी सुरेन्द्र तेगटा सहित खण्ड चिकित्सा अधिकारी बैठक में उपस्थित थे।