विश्व कुष्ठ रोग दिवस के अवसर पर कार्यक्रम आयोजित

कुष्ठ रोग का पूर्ण उपचार सम्भव है तथा सभी स्वास्थ्य संस्थानों में कुष्ठ रोग का निःशुल्क उपचार किया जाता है। यह जानकारी स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग द्वारा गत दिवस विश्व कुष्ठ रोग  दिवस के अवसर पर नेहरू युवा केन्द्र में आयोजित कार्यक्रम में प्रदान की गई। इस अवसर पर एक प्रशनोत्तरी प्रतियोगिता भी आयोजित की गई।

बीसीसी समन्वयक राधा चौहान ने इस अवसर पर कहा कि शरीर पर कोई दाग या धब्बा जो शरीर से हल्के रंग का या ताम्बे जैसे रंग का हो तो कुष्ठ रोग के लिए इसकी जांच करवाई जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि त्वचा के रंग में बदलाव की भी जांच करवाई जानी चाहिए। शरीर के ऐसे दाग जो सुन्न हों अथवा शरीर के किसी हिस्से के सुन्न रहने या हाथ-पैर की नसों में सूजन और यहां स्पर्श करने पर दर्द की जांच भी कुष्ठ रोग के लिए करवाई जानी चाहिए।
उन्होंने कहा कि जांच के उपरान्त शीघ्रता से कुष्ठ रोग का उपचार आरम्भ किया जाना चाहिए। सभी स्वास्थ्य केन्द्रों में कुष्ठ रोग का उपचार निःशुल्क उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि एमडीटी (मल्टी ड्रग थैरेपी) के नियमित उपचार से घर पर ही कुष्ठ रोग पूरी तरह ठीक हो सकता है।
उन्होंने कहा कि इस दिशा में जागरूकता आवश्यक है। इस अवसर पर 50  प्रतिभागी उपस्थित थे।