राजगढ़ –नगर पंचयात राजगढ़ के वार्ड नम्बर एक में लिंक रोड की समस्या…..

राजगढ़ –नगर पंचयात राजगढ़ के वार्ड नम्बर एक में लिंक रोड की समस्या काफी लम्बे अरसे से लंबित पड़ी हुई है लेकिन आजतक किसी भी राजनेतिक दल के नेताओ द्वारा इसकी सुध नहीं ली गई जिससे की वार्ड नमबर एक की जनता काफी परेशानी झेल रही है | यदी नगर पंचायत राजगढ़ के वार्ड न० में लिंक रोड को शीघ्र ही  स्वीकृती नही दी जाती है तो जन कल्याण समिती राजगढ़ अदालत का दरवाजा खटख्टायेगी जन कल्याण समिती राजगढ़ द्वारा  उपमंडलाधिकारी राजगढ़ व् उपाध्यक्ष नगर पंचायत को लोक निर्माण विभाग कार्यालय राजगढ़ से डी ए वी स्कूल तक लिंक रोड का निर्माण करवाने सम्बन्धी एक ज्ञापन सौंपा गया समिती सदस्यों ने कहा कि नगर पंचायत के वार्ड न० के लोग एक दशक से अधिक समय से लिंक रोड बनाने की मांग कर रहे है ताकी लोगो को  एम्बुलेंस आदी की सुविधा मिल सके उन्होंने बताया कि यह  मार्ग रेवेन्यु रिकोर्ड में तो फीट है लेकिन मौके पर नही यह रास्ता दो जागह पर अवरुद है |  लोक निर्माण विभाग द्वारा यहाँ गेट लगाये गये है |   इस विषय में नगर पंचायत से अनापती पत्र जारी होने के बाद  दोनों दलों की सरकारों के नुमाईन्दो से कई बार गुहार लगाई जा चुकी है लेकिन सरकार के किसी भी प्रतिनिधी ने सड़क  बनाने के प्रती गम्भीरता नही दिखाई यही कारण है कि लिंक रोड बनाने के लिए  स्वीकृती व् बजट उपलब्ध नही हो सका   | समिती सदस्यों ने कहा कि सितम्बर  2019 में फागू में आयोजित जनमंच में भी इस समस्या को रखा गया और विभाग द्वारा सांसद से इसके लिए राशी उपलब्ध करवाने की मांग भी की जा चुकी है समिती के अध्यक्ष मोहर सिंह  ने बताया कि इसके बारे  में प्रदेश के मुख्यमंत्री को भी अवगत करवाया गया और उन्होंने विभाग से स्टेट्स रिपोर्ट भी माँगी |  विभाग ने पहले तो 223 मीटर सड़क का साईड पलान और  उसके लिए लाख की राशी के बजट  की मांग की थी लेकिन मुख्यमंत्री को भेजी स्टेट्स रिपोर्ट में लिखा कि विभाग के कर्मचारियों के लिए क्लोनियो का निर्माण करना है और कोइ भी रास्ता विभाग द्वारा खराब नही किया है जबकी विभाग द्वारा रास्ते को  खराब किया है सदस्यों ने एस  डी एम् से मौके का मुआयना करने की मांग भी की |   समिती का कहना है कि कलोनी में 80 प्रतिशत लोग अनुसूचित जाती के रहते है और यहाँ के लिंक रोड के लिए एस सी कम्पोनेंट फंड से भी राशी का प्रावधान किया जा सकता है यही नही यहाँ निजी  स्कूल भी स्थित है जहाँ  छोटे बच्चो को छोड़ने के लिए अविभावको को भी मुश्किल का सामना करना पड़ता है |एक और जहा स्कूली बचो के स्कुल बेग का वजन 8 से 10 किलो होता और स्कुल तक सडक न होने से बचो सहित अभिभावकों को खासी परेशानी उठानी पडती है कई बार अक्सर देखा जाता है की छोटे बचे अपनी पीठ में भारी बेग उठाकर निचे गिर जाते है और उन्हें चोट लग जाती है  जन कल्याण समिती राजगढ़ ने  सरकार को चेताया कि  यदी  इस बजट सत्र में स्वीकृती न मिली तो अदालत का रुख किया जायेगा |इस बारे जब लोक निर्माण विभाग के सहायक अभियन्ता डी एस कोंडल से बात की तो उन्होंने बताया की जिस जमीन से सडक बननी है वह विभाग की है और उसे सडक निर्माण के लिय नहीं दे सकते फिर भी विभाग द्वारा प्रदेश सरकार के लिय स्वकृति करने बारे भेजा जा चूका है | यदि सरकार से स्वकृति मिल जाय तो हमे कोई एतराज नहीं है |