मेले और त्यौहार हमारे जीवन के अभिन्न अंग- गर्ग

बिलासपुर, 5 मार्च-खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले मंत्री श्री राजेंद्र गर्ग ने आज घुमारवीं में जिला स्तरीय ग्रीष्मोत्सव उत्सव 2022 का शुभारंभ किया। इस अवसर पर उन्होंने लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि मेले और त्यौहार हमारे जीवन के अभिन्न अंग है। मेलों के आयोजन से हमारा समाज व भाईचारा सुदृढ़ होता है वही सामाजिक व सांस्कृतिक मूल्यों का संरक्षण भी होता है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी से राहत मिलते ही ग्रीष्मोत्सव के आयोजन करने का अवसर प्राप्त हुआ है। इसी संदर्भ में इस बार ग्रीष्मोत्सव उत्सव धूमधाम से मनाया जा रहा है। इन उत्सवों के आयोजन से ग्रामीण परंपराओं व संस्कृति को अगली पीढ़ी तक पहुंचाने का एक मौका मिलता है। इन मेलों के आयोजन से पुरातन परंपराओं को संचारित करने में अहम योगदान रहता है। ग्रीष्मोत्सव  में दूसरे राज्यों से व्यापारी आकर अपना व्यापार करते हैं जिससे स्थानीय लोग अपने घरों के लिए जरूरत की चीजें खरीद सकते हैं।
उन्होने कहा कि उत्सव के दौरान तीन सांस्कृतिक संध्या का आयोजन किया जाएगा जिसमें ग्रामीण प्रतिभाओं को मंच प्रदान किया जाता है जिससे उनकी  प्रतिभाओं में निखार आता है। घुमारवीं ग्रीष्मोत्सव में आयोजित की जाने वाली छिंज  काफी ख्याति प्राप्त है और मेले का मुख्या आकर्षण है छिंज में दूसरे राज्यों के पहलवान भी अपनी जोर आजमाइश करते हैं। कुश्ती के आयोजन में जहां स्थानीय  छिंज प्रेमी बड़ी संख्या में भाग लेते हैं वही दूसरे जिलों के लोग भी इसमें शिरकत करते हैं।
उन्होने कहा कि प्रदेश सरकार मेले और उत्सवों के माध्यम से लोक संस्कृति को बढ़ावा देने वह उसे संरक्षित करने तथा उन्हें मनोरंजक व आकर्षक बनाने में प्रयासरत है। इसी कड़ी में स्वर कोकिला लता मंगेशकर के नाम से प्रदेश में संगीत महाविद्यालय खोला जा रहा है। घुमारवीं विधानसभा क्षेत्र के विकास की चर्चा करते हुए उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री के आशीर्वाद व मार्गदर्शन से क्षेत्र में चहुमुखी विकास किया जा रहा है। घुमारवीं शहर को सुंदर बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं तथा स्थानीय लोगों व नगर परिषद के सहयोग से शहर में कूड़े के ढेर को समाप्त  किया गया है तथा कूड़ा कचरा प्रबंधन की समुचित व्यवस्था की जा रही है। लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं प्रदान करने के लिए नागरिक अस्पताल घुमारवीं को 50 से 100 बिस्तर का कर दिया गया है। तथा डॉक्टर की संख्या 5 से 10 कर दी गई है जिसमें विशेषज्ञ डॉक्टर शामिल हैं। इसी दिशा में अस्पताल में आंतरिक मरीजों के लिए 11 करोड़ रुपए की लागत से भव्य बहुमंजिला इमारत का निर्माण किया जा रहा है जिसका कार्य 50 प्रतिश्त तक पूर्ण कर लिया गया है। इसमें महिला शिशु व अन्य विभिन्न प्रकार के विशेषज्ञों वार्ड भी निर्मित किए जा रहे हैं। घुमारवीं में एचआरटीसी का सब डीपो आरंभ कर दिया गया है तथा जमीन मिलते ही इसे पूर्ण डिपो के रूप में स्थापित कर दिया जाएगा। इसके अतिरिक्त घुमारवीं शहर के लिए 3 ओवर फुटब्रिज बनाए जायेगे, जिसमें से अस्पताल के नजदीक एक ओवर फुटब्रिज का निर्माण लगभग पूरा होने वाला है। उन्होंने कहा कि घुमारवीं शहर  में पेयजल व्यवस्था के लिए एशियन विकास बैंक 20 करोड़ रुपए स्वीकृत किए गए हैं इसके अंतर्गत शहर के सभी वार्डों में एक-एक ओवरहेड टैंक का निर्माण किया जाएगा तथा सभी पुरानी पाइपों को बदल दिया जाएगा। घुमारवीं शहर में यातायात की समस्या के समाधान के लिए पुराने पुल के पास से शहर के लिए एक बायपास मार्ग का निर्माण किया गया है जिसको शीघ्र ही पक्का भी कर दिया जाएगा। लोगों को एक ही छत के नीचे सरकारी सेवाएं प्रदान करने के लिए घुमारवीं में मिनी सचिवालय का कार्य का  शीघ्र ही  शुरू किया  जाएगा। विधानसभा क्षेत्र घुमारवीं में सड़कों के विकास की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि घुमारवीं के सभी ग्रामीण क्षेत्रों में लगभग 200 गांव को संपर्क मार्गों से जोड़ा गया है।
इससे पूर्व उन्होंने घुमारवीं शिव मंदिर से छिंज ग्राउंड तक शहर की परिक्रमा  करते हुए एक भव्य शोभायात्रा निकाली गई जिसमें शहर के सभी गणमान्य लोगों ने भाग लिया। इस अवसर पर बैलों की पूजा की गई तथा खूटा गाड कर कर मेले का शुभारंभ किया गया। उन्होंने ग्रीष्मोत्सव उत्सव का ध्वजारोहण कर विभिन्न विभागों द्वारा लगाई गई विकासात्मक प्रदर्शनों का अवलोकन भी किया।
इस अवसर पर स्थानीय महिला मंडलों, शिक्षण स्थानों के छात्रों द्वारा रंगारंग सांस्कृृतिक प्रस्तुतियां भी दी गई।
उपमंडलाधिकारी एवं अध्यक्ष जिला स्तरीय ग्रीष्मोत्सव उत्सव समिति राजीव ठाकुर ने मुख्य अतिथि का स्वागत करते हुए कहा कि इस बार ग्रीष्मोत्सव उत्सव को नया स्वरूप प्रदान किया गया है जिसमें प्रतिदिन विभिन्न खेलों का आयोजन किया जा रहा है तथा महिला मंडलों के कार्यक्रम आयोजित किए जाएंगे। जिला की लोक संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए इस बार मेले में कहलूर क्वीन प्रतियोगिता का आयोजन भी पहली बार किया जा रहा है । सांस्कृतिक कार्यक्रमों में स्थानीय कलाकारों को प्राथमिकता दी जाएगी।
इस अवसर पर मंडल अध्यक्ष सुरेश ठाकुर, मंडल महामंत्री राजेश शर्मा, जिला प्रवक्ता भारद्वाज, नगर परिषद की  अध्यक्षा रीता सहगल, उपाध्यक्ष श्याम शर्मा, सभी पार्षदगण, डीएसपी अनिल ठाकुर, व्यापार मंडल के अध्यक्ष हेमराज संख्यान,   तहसीलदार जय गोपाल शर्मा, वीर चक्र प्राप्त रूपलाल, शहीद अंकुश के माता पिता सहित भारी संख्या में लोगों ने भाग लिया ।