पांवटा :साक्या संप्रदाय के 43वें पदाधिकारी के सिंहासन गद्दी कार्यक्रम में पहुंचे राज्यपाल

राज्यपाल आज सिरमौर जिले के पांवटा साहिब स्थित पुरुवाला मे साक्या संप्रदाय के 43वें पदाधिकारी श्री ज्ञान वज्र रिनपोछे के आध्यात्मिक सिंहासन गद्दी आरोहण कार्यक्रम में बतौर मुख्यतिथि संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि करीब एक हजार वर्ष पुराने साक्या संप्रदाय की शिक्षा और विचारों को विश्व में प्रचारित करने की आवश्यकता है, ताकि सकारात्मकता की भावना पैदा हो।

 उन्होंने कहा कि भारत एक शांतिप्रिय देश है और यहाँ लोगों में आध्यात्मिकता की भावना अधिक है, जिसे हमारी संस्कृति से कोई दूर नहीं कर सका। भारत अपनी समृद्ध संस्कृति और परंपराओं के लिये जाना जाता है। भारत विश्व की सबसे पुरानी सभ्यता वाला देश है तथा भारतीय लोग आज भी अपनी परंपराओं व उच्च मूल्यों कि दुनिया में कई देशों की संस्कृति लुप्त हो चुकी है और कई देशों की संस्कृति लुप्त होने की कगार पर है। भारत एक ऐसा देश है, जहां संस्कृति आज भी जीवित है जिसका श्रेय हमारे गुरुओं को जाता है। उन्होंने कहा कि देश की बहुमूल्य वस्तुओं को लूटने के लिए कई अक्रान्ता यहां आए लेकिन हमारी पुरातन संस्कृति, जोकि इस देश की असली दौलत है, को नहीं ले जा सके।

इसके विपरीत, हम जब भी दूसरे देशों तक गए वहां अपने सांस्कृतिक मूल्यों को देकर आया। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानंद केवल आध्यात्मिकता साथ लेकर घर से निकले थे जिसे उन्होंने न केवल अमेरिका बल्कि पूरे संसार में फैलाया। इसी प्रकार, भगवान बुद्ध ने जो संदेश दिया वो पूरे संसार के लिए मिसाल बना।

इस अवसर पर साकय समाज के 41वें गुरु गोंडमा टीछैन रिनपोछे, 41वें गुरु टीजिन रिनपोछे और 43वें पदाधिकारी श्री ज्ञान वज्र रिनपोछे ने भी उपस्थित जनसमूह को सम्बोधित किया।

ऊर्जा मंत्री सुखराम चौधरी, उपायुक्त सिरमौर राम कुमार गौतम, पुलिस अधीक्षक ओमापति जमवाल, उपमंडल दंडाधिकारी पांवटा साहिब विवेक महाजन, प्रदेश सरकार के अन्य अधिकारी, साकय समाज के पदाधिकारी तथा अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे।