नौणी विवि ने मनाया योग दिवस…

डॉ यशवंत सिंह परमार औदयानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय, नौणी में हर वर्ष की तरह इस साल भी अन्तराष्ट्रिय योग दिवस बड़े  ही उत्साह के साथ मनाया गया। इस अवसर पर योग भारती हिमाचल प्रदेश के संस्थापक श्री श्रीनिवास मूर्ति मास्टर ट्रेनर रहे। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर राजेश्वर सिंह चंदेल ने श्रीनिवास मूर्ति और सभी प्रशिक्षकों का स्वागत किया।

प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए प्रोफेसर राजेश्वर सिंह चंदेल ने सभी लोगों में योग के प्रति उत्साह देखकर प्रसन्नता व्यक्त की। उन्होंने कर्मचारियों और छात्रों से योग को अपने दैनिक जीवन का हिस्सा बनाने और किसी विशेष दिन तक इसे सीमित न रखने का आग्रह किया। प्रोफेसर चंदेल ने कहा कि विश्वविद्यालय कर्मचारियों और छात्रों के लिए नियमित योग शिविर आयोजित करने की दिशा में प्रयास करेगा।

प्रोफेसर चंदेल विश्वविद्यालय के छात्रों, कर्मचारियों और शिक्षकों के साथ योग अभ्यास में शामिल हुए। श्रीनिवास मूर्ति और डॉ अनुपमा चंदेल, सहायक प्रोफेसर, योग, शूलिनी विश्वविद्यालय ने कार्यक्रमों का संचालन किया जहां प्रतिभागियों को विभिन्न योग आसन करने का सही तरीका दिखाया गया।

कार्यक्रम की शुरुआत श्रीनिवास मूर्ति जी ने अपने सम्बोधन से की, जिसमें योग के विभिन्न पहलुओं पर चर्चा की गई। उन्होनें कहा की योग एक विज्ञान और जीवन को जीने का एक नज़रिया है। उन्होनें सभी से योग को अपनी जीवनशैली से जोड़ने का आग्रह किया ताकि एक शांत और स्वस्थ जीवन जिया जा सके। करीब डेढ़ घंटे तक चले कार्यक्रम में योग की विभिन्न आसनों की सही विधि और उनसे जुड़े फायदे के बारे में बताया गया।

इससे पूर्व विश्वविद्यालय के बागवानी महाविद्यालय की डीन डॉ अंजू धीमान ने योग के इतिहास और अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के बारे में बताया। व्यवसाय प्रबंधन विभाग के एचओडी डॉ केके रैना ने विश्वविद्यालय के साथ योग के बारे में अपने विचार और ज्ञान साझा करने के लिए श्री श्रीनिवास मूर्ति और डॉ अनुपमा और उनकी टीम का धन्यवाद किया। विश्वविद्यालय के अनुसंधान निदेशक डॉ रविंदर शर्मा, विस्तार शिक्षा निदेशक डॉ दिवेन्द्र गुप्ता, एस्टेट ऑफिसर वीके शर्मा सहित अन्य अधिकारियों और छात्र इस कार्यक्रम में शामिल हुए। विश्वविद्यालय के नेरी और थुनाग में स्थित औदयानिकी एवं वानिकी महाविद्यालय, सभी कृषि विज्ञान और अनुसंधान केन्द्रों पर भी योग दिवस पर कार्यक्रम आयोजित किए गए।