जंगल में लटका मिला एचआरटीसी के चालक का शव

प्रदेश में एचआरटीसी के चालक ने फांसी का फंदा लगा कर आत्महत्या कर ली है। मामला प्रदेश की राजधानी शिमला के पुलिस थाना बालूगंज के तहत पेश आया है। मृतक की पहचान 45 वर्षीय घनश्याम निवासी गांव पैड़ी जिला मंडी के तौर पर हुई है। जोकि एचआरटीसी शिमला लोकल डिपो में तैनात था जिसका शव शनिवार दोपहर बलैण जंगल के पास श्मशान घाट में पेड़ से लटका हुआ मिला है।

सारी घटना के बारे में घास लेकर लौट रही महिला ने दी जब उसने शव को पेड़ से लटका देखा,मौके पर पहुंच पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार बीते शुक्रवार शाम चालक शिमला से बलैण रूट पर गया हुआ था। जबकि बस का परिचालक स्थानीय है, वह शाम को अपने घर चला गया और चालक ने शाम को खाना खाया और अपने कमरे में सो गया।

जानकारी है की उसकी बस सुबह 8:10 बजे यह बस बलैण से शिमला के लिए चलती है। सुबह जब वह तय समय पर बस के पास नहीं पहुंचा तो परिचालक ने इसे फोन किया।चालक का फोन कमरे में ही था, लेकिन वह वहां पर मौजूद नहीं था।

जिसकी सूचना अपने कार्यालय को दी और सुबह 9:30 बजे जतोग चौकी से पुलिस मौके पर पहुंची। प्रधान मनोज कुमार भी सूचना मिलने के तुरंत बाद मौके पर पहुंचे। इसके अलावा बलैण व सुजाणा वार्ड के वार्ड सदस्य मौके पर पहुंच गए थे।

चालक का सारा सामान जिसमें उसका बैग, मोबाइल फोन, जूते और अन्य सामान कमरे में ही पड़ा हुआ था।सारा सामान पुलिस ने कब्जे में ले लिया है।पुलिस को किसी भी प्रकार का सुसाइड नोट बरामद नहीं हुआ है।

जानकारी देते हुए डीएसपी हेडक्वार्टर कमल किशोर वर्मा ने बताया कि शव का पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है और सीआरपीसी 174 के तहत केस दर्ज कर कार्रवाई अमल में लाई जा रही है।