केलांग में अस्थाई पैदल पुल के जरिए आज  किया गया करीब 150 लोगों को रेस्क्यू

केलांग- उदयपुर सड़क पर शांशा नाले पर भारी बाढ़ से हुए क्षतिग्रस्त पुल के चलते उदयपुर की तरफ फंसे करीब 150 लोगों को आज चलाए गए अभियान में रेस्क्यू करके इस ओर किरतिंग पहुंचा दिया गया। किरतिंग से आगे सड़क आवाजाही के लिए पूरी तरह से बहाल है।

दोपहर तक चले इस पूरे अभियान की निगरानी स्वयं तकनीकी शिक्षा, जनजातीय विकास एवं सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री डॉ रामलाल मारकंडा ने की। अभियान को पुलिस, होमगार्ड और अग्निशमन के जवानों की टीम द्वारा अंजाम दिया गया जिसकी अगुवाई डीएसपी केलांग हेमंत कुमार ने की।

डॉ रामलाल मारकंडा ने अभियान में जुटी टीम की तारीफ करते हुए कहा कि आपदा के समय जवानों द्वारा किया गया कार्य काबिले तारीफ है। उन्होंने बताया कि जिन लोगों को रेस्क्यू किया गया है, उन्हें हिमाचल प्रदेश पथ परिवहन निगम की बस के जरिए केलांग भेज दिया गया है। यहां से वे अपने गंतव्य को रवाना हो जाएंगे।

उन्होंने कहा कि शांशा पुल तक की क्षतिग्रस्त सड़क को मशीनरी के माध्यम से जल्द दुरुस्त करके बहाल किया जा रहा है। उन्होंने ये भी कहा  कि सड़क और पुलों की बहाली की वे स्वयं निगरानी करेंगे ताकि आवागमन की सुविधा शीघ्र शुरु हो और आम जनजीवन अपने कार्यों को पहले की भांति सुगमता से अंजाम दे सके।

उन्होंने कहा कि खराब मौसम के चलते मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर आज उदयपुर क्षेत्र का दौरा नहीं कर सके।

अभियान खत्म करने के बाद डॉ राम लाल मारकंडा स्वयं भी अस्थाई पैदल पुल पार करके उदयपुर की ओर व्यवस्थाओं का जायजा लेने के लिए रवाना हो गए।