कहलूर लोकोत्सव के दूसरे दिन 26 सांस्कृतिक दलों, महिला मण्डलों और लोक कलाकारों ने दी प्रस्तुतियां

बिलासपुर 19 मार्च – अतिरिक्त उपायक्त तोरूल रवीश ने राज्य स्तरीय नलवाड़ी मेले में कहलूर लोकोत्सव के दूसरे दिन लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि प्राचीन लोक सांस्कृतिक को संजोए रखने के लिए लोक कलाकार अपनी अहम भूमिका का निर्वहन कर रहे हैं। कलाकार प्राचीन लोक सांस्कृतिक विरासत को भावी पीढ़ी तक पहुंचाने के लिए एक सेतु के रूप में कार्य करते है।  उन्होनें कहा कि लोक सांस्कृतिक विरासत को युवाओं से रूबरू करवाना अत्यन्त जरूरी है इससे न केवल उन्हें प्राचीन लोक कलाकारों की उत्कृष्ट रचनाओं की जानकारी ही मिलेगी बल्कि लोक सास्ंकृतिक धरोहर के दर्शन भी होगें।
नलवाड़ी मेले के कहलूर लोक महोत्सव के दूसरे दिन निम्न 26 सांस्कृतिक दलों व महिला मण्डल के दलों ने भाग लिया। शिव शक्ति सांस्कृतिक दल गांव सायर डाकघर डोबा तहसील सदर, सरस्वती महिला मंडल मनहनंन गांव मनहनंन डाकघर सुन्हानी तहसील झंडूता, शिवा स्वयं सहायता समूह/महिला मंडल पंगा गांव पंगा डाकघर कुठेहला तहसील श्री नैना देवी जी, महिला मंडल सिद्ध बाबा गोदडीया, शिवा महिला मंडल बैहरण जंगल गांव व डाकघर बैहरण तहसील झंडूता, लखदाता स्वयं सहायता समूह गांव मंझेड तहसील श्री नैना देवी जी, महिला जागृति सोसाइटी कल्लर गांव कल्लर तहसील झंडूता, एकल विद्यालय कल्लर पट्टा तथा शिवा महिला मंडल मुकडाना ने लोक नृत्य प्रस्तुत किया।
लक्ष्मी बाई स्वयं सहायता समूह गांव दनोह डाकघर बिलासपुर, महिला मंडल संुगल, मां नैना स्वयं सहायता समूह तरेड गांव तरेड डाकघट चांदपुर, काजल कल्लर पट्टा, निशा चंदेल बैरी दडोला, फुला कंजयोटा, भगवान दास गांव कोहली डाकघर रवाना, मनसा पंडित गांव जनडोट डाकघर भटवाडा तहसील घुमारवीं, मोनिका नौणी तहसील सदर ने एकल लोक गायन प्रस्तुत किया।
परस राम एंड पार्टी गांव माकडी-मारकंड डाकघर जुखाला तहसील सदर, भाग सिंह एंड पाटी गांव पराहु डाकघर बलघाड़, राम कृष्ण एंड पार्टी जंगल झलेडा, जालपा मण्डल ने गुग्गा गाथा की प्रस्तुति दी।
रूप लाल एंड पार्टी डून गांव डून डाकघर कोटलू तसहील घुमारवीं ने लोक गीत की प्रस्तुति दी।